Wednesday, 6 March 2013

मेरी कुछ कवितायेँ


कई बार सुने हुए लफ़्ज जेहन में बहुत देर तक ताजे बने रहते हैं | एक छोटी सी कोशिश उन कागजों से कविताओं को निकल कर उन्हें जिन्दा करने की..

.http://www.divshare.com/download/23825464-528

No comments:

Post a Comment